धोनी द्वारा भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल दिया गया बीसीसीआई ने कहा

Sports

लाजवाब कप्तानी के हुनर से महान क्रिकेटरों में शामिल दो बार के विश्व कप विजेता पूर्व क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। इसके साथ ही उन्होंने पिछले एक साल से उनके भविष्य को लेकर जो अटकलें लगाई जा रही थी उन पर विराम लगा दिया है।

हालांकि वह 19 सितंबर से यूएई में आयोजित होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग में खेलेंगे। अपनी शानदार कप्तानी और मैच को अंजाम तक ले जाने की कला में महारत रखने वाले 39 साल के धोनी के इस फैसले के साथ क्रिकेट के एक युग का अंत हो गया। महेंद्र सिंह धोनी ने अपने इंस्टाग्राम
पर लिखा कि अब तक आपके प्यार और सहयोग के लिए धन्यवाद शाम 7:29 से मुझे सेवानिवृत्त समझिए। इससे ठीक एक दिन पहले वह यूएई में होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग के लिए सीएसके टीम से जुड़ने के लिए चेन्नई पहुंचे थे। बीसीसीआई ने अपने एक बयान में कहा कि उनके कैरियर की ऐतिहासिक उपलब्धियों को दोहरा पाना मुश्किल होगा ।भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली के अनुसार यह एक युग का अंत है वह एक शानदार क्रिकेटर रहे हैं देश के लिए, और दुनिया के लिए, मैदान पर बिना किसी मलाल कि उन्होंने अलविदा कहा। बोर्ड के सचिव जय शाह ने कहा जब उन्होंने खेलना शुरू किया था तब से आज तक खेल को बहुत कुछ देकर वह जा रहे हैं।

बोर्ड ने लिखा कि धोनी ने अपने शांत रवैया, खेल की बेहतरीन समझ शानदार नेतृत्व क्षमता से भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल दिया। धोनी ने भारत के तरफ से आखिरी मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले साल जुलाई में विश्व कप के सेमीफाइनल में खेला था। उस तनावपूर्ण मैच में धोनी 50 रन बनाकर आउट हो गए थे । इसके बाद वह लंबे ब्रेक पर चले गए थे और पिछले 1 साल से उनके संन्यास को लेकर अटकलें लग रही थी, लेकिन इस संबंध में उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया । वनडे क्रिकेट में पांचवें से सातवें नंबर के बीच में बल्लेबाजी करते हुए 50 से अधिक की औसत से 10773 रन बनाए जबकि टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए।

Leave a Reply