रिया चक्रवर्ती ने ‘फर्जी मेडिकल पर्चे’ को लेकर सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ शिकायत की

Crime Entertainment National

सुशांत सिंह राजपूत मौत के मामले में एक नया मोड़ उस वक्त आ गया जब अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने कहा सोमवार को मुंबई पुलिस के समक्ष एक शिकायत दर्ज करवाई, जिसमें उन्होंने दिवंगत अभिनेता की बहन प्रियंका सिंह, राममोहन लोहिया अस्पताल नई दिल्ली के डॉक्टर तरुण कुमार और एक अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध किया। अभिनेत्री के अनुसार सुशांत को “इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्राप्त फर्जी चिकित्सा पर्चा” से दवाई दी गई जिससे उनकी मृत्यु हो गई।अभिनेत्री ने अपनी शिकायत में यह भी आरोप लगाया है कि सुशांत की मौत इस अवैध परिचय को प्राप्त करने के 5 दिनों के भीतर हो गई।
पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में रिया ने कहा है कि 8 जून 2020 सुबह मृतक सुशांत लगातार अपने फोन पर संदेशों का आदान प्रदान कर रहे थे और जब मैंने पूछताछ की युवा क्या कर रहे हैं तो उन्होंने मुझे कुछ संदेश दिखाएं जिसमें कि वह अपनी बहन प्रियंका के साथ संदेशों का आदान प्रदान कर रहे थे। जब मैंने उन संदेशों को देखा तो मैं चौंक गई क्योंकि उनकी बहन प्रियंका ने उन्हें दवाओं की एक सूची भेजी थी जो उन्हें खानी है। मैंने सुशांत को समझाया की उनकी स्थिति की गंभीरता को देखते हुए और सब से यह है कि उनके पास पहले से ही डॉक्टरों द्वारा निर्धारित दबाए थी जिन्होंने कई महीनों से उनकी जांच की और उनका इलाज किया। ऐसी स्थिति में उन्हें कोई अन्य दवाएं नहीं लेनी चाहिए कम से कम वह दवा है जो उनकी बहन के द्वारा निर्धारित की गई है क्योंकि उनकी बहन के पास कोई मेडिकल डिग्री नहीं थी। इसी बात पर मृतक मुझ से असहमत थे और उन्होंने जोर देकर कहा की वह वही दवाई लेंगे जो उनकी बहन उन्हें बता रही थी।

आगे उन्होंने कहा की अब पता चला है कि उनकी बहन प्रियंका ने बाद में उसी दिन उन्हें डॉ राम मनोहर लोहिया अस्पताल नई दिल्ली से कार्डियोलॉजी के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ तरुण कुमार के द्वारा लिखा गया दवाई का पुर्जा भेजा था। मेरा कहना है कि प्रथम दृष्टया एक दस्तावेज जाली और मनगढ़ंत प्रतीत होता है । अभिनेत्री ने आगे आरोप लगाया कि डॉ कुमार ने जिस तरह दवा को निर्धारित किया है जिसे कानून के अनुसार “बिना किसी प्रमुख परामर्श के नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकॉट्रॉपिक सब्सटेंस एक्ट 1985 के तहत नियंत्रित किया जाता है”। उसने यह भी आरोप लगाया कि मेडिकल परिचय में दिवंगत अभिनेता को दिल्ली के अस्पताल में और दौड़ परसेंट डिपार्टमेंट शेरों की के रूप में दर्शाया गया है जबकि वास्तव में व 8 जून को मुंबई में थे। यह टैली मेडिसिन प्रैक्टिस दिशानिर्देशों के 3.7.1.4 के अनुसार कदाचार है।यह शिकायत बांद्रा पुलिस को सौंप दी गई है जिसे अभी तक प्राथमिकी में परिवर्तित नहीं किया गया है।

Leave a Reply