रांची में जमीन पर कब्जा के लिए महिलाओं की टोली सक्रिय, पुलिस तैयार कर रही सूची - News of States

Breaking News

रांची में जमीन पर कब्जा के लिए महिलाओं की टोली सक्रिय, पुलिस तैयार कर रही सूची

0 0

रांची में जमीन पर कब्जा के लिए महिलाओं की टोली सक्रिय है। जमीन माफिया इन्हीं महिलाओं के जरिए जमीनों पर कब्जा कर रही है। भू माफिया उनकी मौजूदगी में चहारदिवारी देने का काम शुरू कराते हैं। रांची पुलिस अब ऐसी महिला समूह की सूची तैयार की जा रही हैं। सिटी एसपी ने सभी थानेदारों को ऐसी महिला समूह के संचालिका को चिहिन्त कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। बताया जा रहा है कि जमीन कब्जा करने में महिला समूह को भू माफिया आगे कर देते हैं।

शहर में ऐसे कई मामलों में दूसरे पक्ष के लोगों के साथ महिलाओं की नोक-झोंक, हाथापायी की नौबत आती है। योजनाबद्ध तरीके से सुरक्षा को लेकर बुलायी गई महिलाएं दूसरे पक्षकार के साथ मारपीट करने से भी नहीं चूकती हैं। बाद में ऐसे मामले को थाना तक ले जाया जाता है और पुलिस के जरीए विरोधियों पर दबाव बनाया जाता है। ऐसे कई मामले में पुलिसिया कार्रवाई और फजीहत के भय से दूसरे पक्ष के लोग ऐसी जमीन पर अपना दावा छोड़कर सुलह समझौता का रास्ता अख्तियार कर रहे हैं।

भाड़ा पर लायी जाती है महिलाएं

जमीन दलाल विभिन्न महिला समूह से संपर्क कर उन्हें पैसो का लालच देकर अपने साथ मिलाते हैं। महिला समूह की संचालिका को मोटी रकम दी जाती है। संचालिका जिन महिलाओं को जमीन कब्जा करने के लिए भेजती हैं, उन्हें भी वह कुछ रकम देती हैं। संचालिका के कहने पर महिला समूह उस जमीन पर कब्जा करने के लिए पहुंच जाती हैं। कब्जा होने पर मेहनताना के साथ उन्हें अलग से भी कुछ रकम दी जाती है।

महिलाओं को बनाया गया था बंधक

खेलगांव इलाके में एक जमीन पर कब्जा के लिए पहुंची इन महिलाओं को बंधक बना लिया गया था। जिसका इस्तेमाल ग्रामीण मसना स्थल के रूप में किया करते हैं, वहां पर इन महिला समूहों को बंधक बनाया गया था। जिसके बाद इन्होंने ग्रामीण को बताया कि इन्हें किराए पर लाया गया था।

थानों में महिला पुलिसकर्मी की कमी

सिटी एसपी सौरभ ने कहा कि पुलिस को महिला समूह द्वारा जमीन पर कब्जा करने की जानकारी है। जिसे देखते हुए ऐसी महिला समूह की संचालिकाओ को चिन्हित करने का निर्देश दिया गया है। महिलाओ के जमीन के खेल में शामिल होने से पुलिस को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। क्योंकि जमीन पर कब्जे की नीयत से आई महिला मंडली की संख्या ज्यादा होती है और थानों में महिला बल की कमी के कारण उन्हें हटाना टेढ़ी खीर। जिस कारण कंट्रोल रूम से महिला फोर्स को मंगाने के बाद ही कार्रवाई की जाती है जिसमे काफी वक्त लग जाता है।

Source : Dainik Jagran

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

%d bloggers like this: